September 30, 2022, 2:57 pm
Homeभारतसंजय दत्त पहुंच गए थे महबूब स्टूडियो राजेश खन्ना को पीटने, यह...
advertisementspot_img
advertisement

संजय दत्त पहुंच गए थे महबूब स्टूडियो राजेश खन्ना को पीटने, यह थी वजह, यह देख सब रह गए हैरान

advertisement

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर राजेश खन्ना ने अपनी फिल्मों और अपने अंदाज से हिंदी सिनेमा में जबरदस्त पहचान बनाई है। राजेश खन्ना ने फिल्म ‘आखिरी खत’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। लेकिन उन्हें सुपरस्टार ‘अराधना’ ने बनाया। राजेश खन्ना अपने करियर से इतर अपने अफेयर को लेकर भी काफी चर्चा में रहे थे। एक वक्त ऐसा भी था, जब वह एक्ट्रेस टीना मुनीम के साथ रिलेशनशिप में थे। लेकिन उनके इस रिलेशनशिप ने उन्हें संजय दत्त के निशाने पर ला दिया था। इतना ही नहीं, संजय दत्त, काका को पीटने के लिए महबूब स्टूडियो तक चले गए थे।

संजय दत्त ने इस बात का खुलासा खुद अपनी बायोग्राफी ‘संजय दत्त- द अनटोल्ड स्टोरी ऑफ बॉलीवुड्स बैड बॉय’ में किया था। एक्टर ने अपनी बायोग्राफी में बताया था कि फिल्म ‘रॉकी’ की शूटिंग के दौरान वह टीना मुनीम से प्यार कर बैठे थे, लेकिन एक्टर के ड्रग अडिक्शन जैसे विवादों में फंसने के बाद टीना मुनीम उनसे अलग हो गई थीं।

उस दौरान टीना मुनीम की एक्टर राजेश खन्ना के साथ फिल्म ‘सौतन’ रिलीज हुई थी, जिसे लोगों ने खूब पसंद किया था। साथ ही दोनों के रिलेशनशिप की खबरें भी आनी शुरू हो गई थीं, जिसने संजय दत्त को परेशान करके रख दिया था। एक्ट्रेस के बारे में उन्होंने अपनी बायोग्राफी में लिखा था, “पूरी दुनिया जानती थी कि वह हर किसी को बेवकूफ बनाती हैं। लेकिन मैंने अंधे की तरह व्यवहार किया और उनका बचाव भी किया।”

टीना मुनीम और राजेश खन्ना के बारे में बात करते हुए संजय दत्त ने आगे कहा था, “जब हमारा रिश्ता खत्म हो गया तो उनके और राजेश खन्ना के अफेयर की खबरें सामने आईं। मुझे लगा कि मेरा प्रयोग किया गया है। हर कोई मुझपर हंस रहा था।” इस बात को लेकर ही एक्टर ने राजेश खन्ना को पीटने का फैसला किया। वहीं काका उस वक्त महबूब स्टूडियो में अपनी फिल्म की शूटिंग कर रहे थे।

संजय दत्त ने राजेश खन्ना के बारे में आगे बताया, “जब टीना मुझे छोड़कर गई तो मुझे पता नहीं क्या हुआ था, बस मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था। मैं इस चीज को बर्दाश्त नहीं कर पा रहा था कि कोई मुझे छोड़कर गया। ऐसे में मैंने राजेश खन्ना को मारने की कसम खा ली। मैं महबूब स्टूडियो पहुंचा, जहां वह कुर्सी पर बैठे थे। मैंने भी कुर्सी खींची और उनके सामने जाकर बैठ गया। मैं उन्हें घूरता रहा और वह भी स्तब्ध हो गए।”

advertisement
advertisement
advertisement
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments

advertisement
advertisement
advertisement

Most Popular

Recent Comments

advertisement
%d bloggers like this: