September 30, 2022, 3:41 pm
Homeटेक्नोलॉजीअब 30 से 40rs प्रति लीटर के खर्चे पर दौड़ेगी आपकी गाड़ी,...
advertisementspot_img
advertisement

अब 30 से 40rs प्रति लीटर के खर्चे पर दौड़ेगी आपकी गाड़ी, नितिन गडकरी ने दिए संकेत

advertisement

नई दिल्ली-पेट्रोल-डीजल की कीमतें (Petrol-Diesel Prices) आसमान छू रही हैं. जिसके चलते आम लोगों का बजट पूरी तरह बिगड़ गया है. कई लोगों ने अपने वाहनों को शोपीस बनाकर खड़ा कर दिया है और पब्लिक ट्रांसपोर्ट (public transport)का साहरा ले रहे हैं. लेकिन सरकार ने लोगों की परेशानी देखते हुए खास प्लान तैयार किया है. इसके संकेत भी परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Transport Minister Nitin Gadkari) ने आज मेरठ में दे दिये हैं. आपको बता दें कि बहुत जल्द महज 30 से 40 रुपए प्रति लीटर   (30 rupees per liter) के खर्चे पर आपकी गाड़ी दौड़ेगी. सरकार ने पेट्रोल-डीजल की निर्भरता (Petrol-Diesel dependency) कम करने का बहुत ही शानदार तरीका इजाद किया है. इस तरीके से लोगों की जेब का बोझ कम हो जाएगा. सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गड़करी इसके संकेत आज मेरठ में दे चुके हैं.

दरअसल, गुरुवार को केन्द्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गड़करी मेरठ पहुंचे हुए थे. वहां उन्हे दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का लोकार्पण करना था. इसी बीच सभा को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि पेट्रोल-डीजल की निर्भरता अब बहुत जल्द ही खत्म होने वाली है. क्योंकि हमारी बार कार कंपनियों से चल रही है. बात अंतिम दौर में है. जल्द ही देश में  फ्लेक्स-ईंधन ( Flex-Fuel ) को लॉन्च किया जाएगा. जिससे आम लोगों को महंगे पेट्रोल – डीजल से निजात मिल जाएगी. फ्लेक्स ईंधन आने के बाद आपकी गाड़ी महज 30 से 40 रुपए प्रति लीटर में दौड़ेगी.

ये है वैकल्पिक ईंधन 
 आपको बता दें कि फ्लेक्स-ईंधन ( Flex-Fuel) फ्लेक्स-फ्यूल कारों (flex-fuel car) और फ्लेक्स फ्यूल (flex-fuel) की चर्चा हो रही है. आपको बताते हैं आखिरकार फ्लेक्स-फ्यूल (What is flex-fuel) आखिर है क्या ? . फ्लेक्स-फ्यूल के जरिए आप अपनी कार को एथनॉल के साथ मिश्रित ईंधन पर चला सकते हैं. आपको बता दें फ्लेक्स-फ्यूल गैसोलीन और मेथनॉल या एथनॉल के संयोजन से बना एक वैकल्पिक ईंधन है. एक फ्लेक्स-इंजन मूल रूप से एक मानक पेट्रोल इंजन है, इस ईंधन से आपकी कार बहुत ही सस्ते दामों में फर्राटा भरेगी. इसके लिए बस आपको 6 माह का ही इंतजार करना होगा. क्योंकि सरकार की बात कार कंपनियों से चल रही है.

advertisement
advertisement
advertisement
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments

advertisement
advertisement
advertisement

Most Popular

Recent Comments

advertisement
%d bloggers like this: