May 20, 2022, 1:05 am
Homeछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ के इस मंदिर में देवी माँ को चढ़ाया जाता है काला...
advertisementspot_img
advertisement

छत्तीसगढ़ के इस मंदिर में देवी माँ को चढ़ाया जाता है काला चश्मा, भक्तो को दिया जाने वाला प्रसाद भी है अनोखा

advertisement

छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले के ग्राम कांगेरवैली नेशनल कोटमसर में हर तीन साल में मां बस्ताबुंदिन की यात्रा होती हैं, यहां माता को काला चश्मा चढ़ाने की परंपरा हैं।

यहां के बुजुर्गों का मानना है, कि चश्मा चढ़ाने से मां उनके जंगलों को बुरी नजर से बचाती हैं, जिस परम्परा को आज यहां युवा पीढ़ी भी अपना रहे हैं। इस संबंध में एक स्थानीय ने बताया कि 3 साल में एक बार यहां आयोजन किया जाता है, बड़ा मेला भी लगता है। खेती को किसी की नजर न लगे इसलिए चश्मा चढ़ाया जाता है। कई पीढ़ियों से ये चलता आ रहा है।

छत्तीसगढ़: बस्तर के कोटमसर में देवी बास्ताबुंदिन को काला चश्मा चढ़ाने की अनूठी और रोचक परंपरा है।

एक स्थानीय ने बताया, “3 साल में एक बार यहां आयोजन किया जाता है, बड़ा मेला भी लगता है। खेती को किसी की नज़र न लगे इसलिए चश्मा चढ़ाया जाता है। कई पीढ़ियों से ये चलता आ रहा है।”

इस साल होगा मेले का आयोजन

कांगेर वैली मे निवास करने वाले आदिवासियों संस्कृति के जानकार बताते हैं, कि पहले गांव के एक ही परिवार के द्वारा माता की पूजा कर मां को काला चश्मा भेंट किया जाता रहा, लेकिन आज इस परंपरा को पूरे क्षेत्र वासियों ने अपना लिया हैं।

क्या कहते हैं मंदिर के पुजारी

मंदिर के पुजारी जीतू बताते हैं, कि इस मेले का आयोजन होना हैं। माता की कृपा से इस साल जंगल हरे भरें रहेंगे, वन देवी रक्षा करेंगी और भक्त इस बार भी माता को चश्मा चढ़ा कर अपनी मनौती मांगते हैं। पुजारी बताते हैं कि माता को चढ़ाया चश्मे भक्तों में प्रसाद के रुप में वितरित किया जाता हैं। भक्त इन चश्मे को पहनकर गांव की परिक्रमा करते हैं ताकि देवी मां बास्ताबुंदिन की कृपा पूरे गांव और ग्राम वासियों पर बनी रहें।

advertisement
advertisement
advertisement
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments

advertisement
advertisement
advertisement

Most Popular

Recent Comments

advertisement
%d bloggers like this: