August 14, 2022, 3:04 pm
HomeकोविडCG: कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद 3 छात्राएं बेहोश, पता लगाया जा...
advertisementspot_img
advertisement

CG: कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद 3 छात्राएं बेहोश, पता लगाया जा रहा है बेहोशी के कारण

advertisement

कोरना के बढ़ते प्रकोप के बीच 3 जनवरी से पूरे देश में कोरना टीकाकरण 15 से 18 वर्ष के बच्चों के लिए शुरू किया गया है. लेकिन छत्तीसगढ़ के वाड्रफनगर में कोरोना वैक्सीन Due to unconsciousness लगाने के बाद 3 छात्राएं बेहोश हो गई है और उन्हें आनन-फानन में सिविल लाइन अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बेहोश हुई तीनों बच्चियां बलरामपुर जिले के पशुपतिपुर हाई स्कूल Due to unconsciousness की बताई जा रही है. जहां वैक्सीन लगने के बाद वे बेहोश हो गई और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां डॉक्टरों की निगरानी में उनका इलाज किया जा रहा है|

वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है.

वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है. वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है. वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है. वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है. वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है. वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है. वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है. वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है. वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है. वहीं इस घटना की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को भी दे दी गई है, जिसके बाद विभाग में हड़कंप है और बच्चियों की बेहोशी के कारण Due to unconsciousness का पता लगाया जा रहा है. अस्पताल में छात्राओं को ऑक्सीजन भी लगाया गया है. परिजनों के मुताबिक वैक्सीन लगने के बाद उन्हें सास लेने में दिक्कतें होने लगी और वे एक-एक कर बेहोश होती गई. हालांकि प्रदेश में अब तक 2 लाख से अधिक बच्चों को वैक्सीन लग चुकी है और इसका कोई भी साइड इफेक्ट बच्चों में अब तक सामने नहीं आया है.

advertisement
advertisement
advertisement
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments

advertisement
advertisement
advertisement

Most Popular

Recent Comments

advertisement
%d bloggers like this: